Ponmagal Vanthal Movie Review in Hindi: स्त्री की दशा पर प्रहार करती फिल्म Ponmagal Vanthal

Ponmagal-Vanthal-Movie

Ponmagal Vanthal Movie Review in Hindi: इस हफ्ते, Amazon prime video विश्व स्तर पर 29 मई को तमिल फिल्म, “Ponmagal Vandhal” का प्रीमियर किया। यह फिल्म जे.पी. फ्रेड्रिक और सूर्या द्वारा निर्मित की गई है। यह एक कानूनी ड्रामा फिल्म है जिसमें मुझी भूमिका में साउथ की अभिनेत्री Jyotika हैं, इसके साथ में पार्थिबन, भाग्यराज, प्रताप पोथेन और पंडियाराजन भी फिल्म में मुख्य किरदार में हैं।

“Ponmagal Vandhal” एक कोर्टरूम ड्रामा और बैंकों की आड़ में एक अप्रकाशित संदेश देती एक फिल्म है जो पूरी तरह प्रमुख सितारे के उत्साह को दिखाती है जिहोने इस फिल्म में काम किया है। हाल ही में Jyotika ने फिर से फिल्म उद्योग में वापसी की है। इस बार वो सिनेमा जगत में नई परियोजनाएं चला रही हैं। वो उन फिल्मों में काम कर रही है जो कुछ न कुछ संदेश हमारे समाज को देती हैं। इस फिल्म में वो स्त्री के साथ होने वाले बुरे व्यवहार के बारे में कोर्ट रूम में लड़ती नजर आ रही हैं।

Ponmagal Vandhal फिल्म की कहानी

“Ponmagal Vandhal” फिल्म की कहानी शुरू होती है 15 साल पहले हुई ऊटी में एक दोहरे हत्याकांड से। ज्योति नाम की एक महिला को बच्चों का अपहरण करने और उनकी हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। “साइको ज्योति” को डब किया गया, उसे एक एनकाउंटर में मार दिया गया और मामला बंद हो गया। 

वकील वेंबा (Jyotika) ने मामले को फिर से खोलने का फैसला किया, पहला वह जो अदालत में बहस कर रही है। भाग्यराज अपने पिता, याचिका पितुराज, एक ऐसे व्यक्ति की भूमिका निभाता है, जिसे सूरज के नीचे किसी भी चीज़ के बारे में याचिका दायर करने की आदत है। वेनबा (Jyotika), जो दावा करती हैं कि ज्योति पर झूठा आरोप लगाया गया था। अभियोजक राजरथीनम (आर पार्थिबन) ज्योति को न्याय दिलाने के लिए वेनबा के लिए चुनौतियां खड़ी करता है। कहानी के अंत में दर्शाया गया है कि कैसे युवा सिफारिश ज्योति की मासूमियत को साबित करती है।

फिल्म के शुरू होने के कुछ समय बाद ही यह स्पष्ट हो जाता है कि वेंबा के पास इस केस को लड़ने का कोई न कोई रीजन तो जरूर है। हालांकि हमें लगता है कि हम जवाब जानते हैं, लेकिन फिर भी निदेश फ्रेड्रिक हमें पूरी फिल्म को देखने के लिए बांदे रखता है। एक पुराने ज़माने की खोजी थ्रिलर की तरह हम सोचते रहते हैं कि 15 साल पहले क्या हुआ होगा – प्रत्यक्षदर्शी, प्रभावित परिवार, पुलिस अधिकारी, और हाँ, एक उत्तरजीवी भी। लेकिन फिल्म की कहानी हमें यह नहीं बताती कि वेनबा (और उसके पिता) ने इन सभी लोगों को कैसे ट्रैक किया और उसने सबूतों को इकठ्ठा करके एक साथ कैसे लाए। देखा जाए तो इस फिल्म की कहानी को लिखने में अच्छा ख़ासा दिमाग लगा होगा।

Ponmagal-Vandhal

फिल्म में अभिनेता और अभिनेत्रियों की परफॉर्मेंस

Jyotika, जो कि वकील का किरदार निभा रही हैं। अभिनेत्री बिल्कुल शांत, भयंकर वेनबा को चित्रित करने के लिए अपने चुलबुली ऑनस्क्रीन व्यक्तित्व से बिल्कुल बाहर आ गई है, और फिल्म को पूरी शिद्दत के साथ अपने कंधों में ले लिया है। वेंबर के पिता पेथुराज के रूप में दिग्गज अभिनेता-फिल्म निर्माता के भाग्यराज को देखना गर्व की बात थी। उन्होंने लाइटर और इमोशनल सीक्वेंस दोनों में आसानी से बहुत ही शानदार अभिनय किया है।

फिल्म में क्या अच्छा है?

  • फिल्म में Jyotika ने शानदार अभिनय किया है उनकी स्टार कास्टिंग की तारीफ़ करना बनता है।
  • यह फिल्म पूरी तरह से महत्वपूर्ण विषय पर बनी है, आज जो समाज में हो रहा है, यह फिल्म उसका वास्तविक चित्रण करती है। 
  • फिल्म अपने सही ट्रैक पर अंत तक बनी रहती है और दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब होती है। इसके साथ ही फिल्म की सिनेमैटोग्राफी भी बहुत अच्छी है। 

फिल्म में क्या अच्छा नहीं है?

  • फिल्म में लंबे समय तक सिर्फ अदालत के दृश्य ही दिखाई देते हैं। 
  • फिल्म में बहुत सी तार्किक खामियां नजर आएंगी। 
  • बच्चों से जुड़े हिंसक दृश्य फिल्म को थोड़ा सा असुविधाजनक बनाते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *