Azim Premji ने COVID -19 टीकाकरण प्रयास में निजी क्षेत्र को जोड़ने का किया आग्रह, कहा दो महीनों में 50 करोड़ लोगों को मिल सकती है वैक्सीन

Azim-Premji

विप्रो के संस्थापक एवं समाजसेवी Azim Premji ने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वो COVID -19 टीकाकरण प्रयास में निजी क्षेत्र को शामिल करें। उन्होंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से कहा कि अगर हम निजी क्षेत्र को शामिल करते हैं तो इस से देश को सिर्फ दो महीनों में कोरोना वायरस के खिलाफ 50 करोड़ टीकाकरण करने में मदद मिल सकती है।

उन्होंने यह आग्रह बेंगलोर चैम्‍बर ऑफ इंडस्‍ट्री एंड कामर्स के कार्यक्रम के दौरान किया। Azim Premji ने कहा “मुझे लगता है कि अगर सरकार निजी उद्योग को जल्दी से जोड़ने बारे में सोचे तो हम निश्चिंत हो सकते हैं कि हम 60 दिनों के भीतर 500 मिलियन लोगों का कवरेज प्राप्त कर लेंगे।”

उन्होंने कहा कि “यह एक व्यावहारिकता है और अगर निजी भागीदारी की अनुमति दी जाती है तो टीकाकरण की दर को एक बड़ा बढ़ावा मिलेगा।

Azim Premji ने कहा कि भारत ने COVID-19 के खिलाफ लड़ने वाले टीके को रिकॉर्ड समय में तैयार किया है। अब एक और काम बचा है और वो ये है कि भारत को उन टीकों को उन्हें बड़े अनुपात में प्रशासित करना है।

Azim Premji ने इस बात पर सहमति जताई कि भारत सरकार ने इस क्षेत्र में बहुत सराहनीय काम किया है और वो अच्छा कर रही है। सके साथ ही उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि निजी भागीदारी से टीकाकरण की दर में सुधार करने में मदद मिलेगी।

प्रेमजी ने कहा कि ‘ऐसी संभावना है कि हम सीरम संस्थान को लगभग 300 रुपये प्रति शॉट के हिसाब से वैक्सीन की आपूर्ति करवा सकते हैं और अस्पताल, निजी नर्सिंग होम 100 रुपये प्रति शॉट के हिसाब से इसे दे सकते हैं। इसलिए, 400 रुपये एक शॉट के साथ, आबादी का सामूहिक टीकाकरण करना संभव है।”

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि सरकार इस प्रयास को एक प्रमुख पूरक के रूप में मानती है।”

covid-19-vaccination

Azim Premji ने पिछले साल COVID-19 से लड़ाई में काफी उदारता दिखाई थी उन्होंने COVID-19 के प्रसार के दौरान 7,904 रूपए यानी कि 22 करोड़ रुपए प्रति दिन के हिसाब से दान किया था। अपने संबोधन में अजीम परमजी ने इस बात पर भी प्रकाश साला कि कैसे सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणालियों को ठीक करने के लिए महामारी हमारे लिए एक ‘वेकअप कॉल’ साबित हुई। इसने समाज की संरचना को बदलने जैसा महत्वपूर्ण कार्य किया। 

बता दें, फिलहाल देश में Novel Coronavirus के खिलाफ टीकाकरण जारी है। अब तक 1.11 करोड़ से अधिक फ्रंटलाइन वर्कर्स और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को टीका लग चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *